• Sign up (email address required) to post comments, write blogs, or to volunteer.
  • The username (in email address) cannot have hyphen (-) or space.
  • If our mails do not reach you or something is pending, please contact us.

About - vision & mission Hindi

Banner Image: 

आनंद वाटिका ग्रीन गुरुकुल: मिशन और उद्देश्य

(8 सितंबर 2016)

18 अगस्त 2016 को मदन नेगी, धारमंडल, टिहरी गढ़वाल, उत्तराखंड में स्थापित और अगले दिन 19 अगस्त से शिक्षा कार्यक्रम आरंभ करने में सक्षम आनंद वाटिका ग्रीन गुरुकुल के शिक्षक अपने विद्यार्थियों के व्यक्तित्व को निखारकर उन्हें जीवन-कला में पारंगत करने का निरंतर प्रयास करने जा रहे हैं, ताकि ये छात्र जीवन की किसी भी प्रतियोगिता में पीछे नहीं रहें. स्कूल और पाठ्यक्रम से इतर शिक्षा के माध्यम से यह लक्ष्य प्राप्त करने का प्रयास है. आनदं वाटिका ग्रीन गुरुकुल में शिक्षा प्राप्त करने से जो लक्ष्य सिद्ध हो सकेंगे, उनमें से कुछ इस प्रकार हैं:

  1. गुरुकुल पद्ध्वति के साथ-साथ ग्रीन विचार-दर्शन और मूल्यों का परिपालन किया जाएगा.
  2. शिक्षा पूरी तरह से निशुल्क होगी. निर्भय और मुक्त वातावरण में शिक्षा दी जाएगी. अर्थात, छात्र-छात्राओं के साथ व्यवहार करते समय मान-सम्मान और मर्यादा का पूरा ध्यान रखा जाएगा.
  3. आनंद वाटिका ग्रीन गुरुकुल के प्रमुख उद्देश्यों में से एक है अंग्रेजी माध्यम में गुणवत्तायुक्त शिक्षा की खोज में हो रहे अनिच्छित पलायन पर अंकुश लगाना. हमारा विचार है कि यदि ग्रामीण माता-पिता को अपने बच्चों के लिए अंग्रेजी माध्यम में गुणवत्तायुक्त नि:शुल्क शिक्षा अपने आस-पास ही मिल तो वे शहरों-कस्बों की ओर पलायन नहीं करेंगे.
  4. यदि आनंद वाटिका ग्रीन गुरुकुल अच्छी और निशुल्क शिक्षा के माध्यम से गांवों से पलायन पर अंकुश लगाने में सफल रहता है तो गांव बचने के साथ-साथ गांवों की कृषि, बागवानी, स्थानीय पारिस्थितिकी और पर्यावरण भी बच सकेंगे.
  5. यदि अच्छी और नि:शुल्क शिक्षा संबंधी आनंद वाटिका ग्रीन गुरुकुल के प्रयासों से पलायन पर अंकुश लगता है तो गांवों की जनसंख्या बढ़ेगी, जिसका अर्थ होगा कारोबार-व्यापार और रोजगार के अधिक अवसर.
  6. आनंद वाटिका ऐसे व्यवसाय और व्यापार का समर्थन करेगा जो ईमानदार, पारदर्शी औरे ग्रीन विचार के अनुरूप संचालित हो.
  7. शिक्षा-दीक्षा आयु और समझदारी के अनुरूप दी जाएगी तथा शिक्षा हिंदी और अंग्रेजी भाषाओं में दी जाएगी.
  8. छात्र-छात्राओं की मातृभाषाओं को भी उचित स्थान मिलेगा.
  9. आनंद वाटिका ग्रीन गुरुकुल का अन्य मुख्य उद्देश्य सस्ती, सुगम और नि:शुल्क सरकारी शिक्षा व्यवस्था को संरक्षित रखना और बचाना है. इसलिए, आनंद वाटिका ग्रीन गुरुकुल केवल  “स्कूल-के-पश्चात-स्कूल” और “पाठ्यक्रम-से-इतर-पाठ्यक्रम” की अवधारणा पर काम करेगा. यह संकल्पना सरकारी शिक्षण-तंत्र की राह में रोड़े के रूप में कभी नहीं आयेगी, बल्कि सरकारी स्कूल जिन विषयों में चूक जाते हैं, उन्हें यह गुरुकुल दूर करेगा.
  10. छात्रों को पारंपरिक और लोक-ज्ञान के साथ-साथ पूर्वजों के लोक-विज्ञान का प्रशिक्षण दिया जाएगा और उनसे अपेक्षा की जाएगी कि वे इन्हें अपने जीवन में साकार करें.
  11. बच्चों को लोक-विज्ञान की शिक्षा इसलिए भी दी जाएगी ताकि वे घराट और नौले जैसी लोक-विज्ञान परंपरा में पारंगत हो सकें.
  12. बच्चों को कूड़ा-कचरा प्रबंधन की शिक्षा दी जाएगी ताकि वे आस-पास का वातावरण और पर्यावरण साफ़-सुथरा रख सकें. रसोई में भोजन इत्यादि बनाने के दौरान जमा होने वाले कचरे को कैसे जैविक खाद में परिवर्तित किया जा सकता है, इसका प्रशिक्षण बच्चों को दिया जाएगा ताकि इसका उपयोग वे अपने किचन गार्डन में कर सकें.
  13. आनंद वाटिका ग्रीन गुरुकुल संस्कृति, लोक-परंपराओं के साथ-साथ लोक-भाषाओं और लोक-व्यवहार के संरक्षण में विद्यार्थियों की सहायता करेगा.
  14. छात्रों को नियमित रूप से रचनात्मक गतिविधियों में लगाया जाएगा.
  15. छात्र-छात्राओं को  ढोल, दमाऊं, रणसिंघा, थाली, हुड़का जैसे परंपरागत वाद्य-यंत्रों के संचालन में प्रशिक्षित किया जाएगा ताकि हमारा सांस्कृतिक पक्ष आने वाली पीढ़ियों के लिए संचित रहे.
  16. छात्र-छात्राओं को लोक-संगीत के साथ-साथ लोक-नृत्यों का प्रशिक्षण भी दिया जाएगा.
  17. छात्र-छात्राओं को शनिवार के दिन प्रेरणादायक फिल्में दिखाई जाएंगी.
  18. आनंद वाटिका ग्रीन गुरुकुल अपने छात्रों के साथ-साथ स्थानीय महिलाओं को भी दैनिक जीवन में काम आने वाले कौशल में प्रशिक्षित करेगा. उदाहरण के लिए महिलाओं को टोकरी बनाने, ऊन कातने और ऊन के डिजाइनर स्वेटर बनाने, हस्तशिल्प का काम सीखने, परंपरागत जैविक खेती को लाभदायक बनाने, मुर्गी-पालन करने, पशुओं की देख-रेख आधुनिक ढंग से करने, दुग्ध उत्पाद तैयार करने इत्यादि का प्रशिक्षण दिया जाएगा.
  19. शिक्षकों को आनंद वाटिका के मिशन, उद्देश्यों और कार्यप्रणाली में दक्ष किया जाएगा ताकि वे आनंद वाटिका परंपरा को आगे ले जा सकें.

यदि हम सब मिलकर स्थानीय परंपराओं के अनुरूप इन उद्देश्यों को प्राप्त करने में सफल होते हैं तो आनंद वाटिका ग्रीन स्कूल नयी तरह की शिक्षा में एक उदाहरण प्रस्तुत कर सकेगा.